Dainik Navajyoti Logo
Sunday 26th of May 2019
 
NDA UPA Others
355 91 96
स्वास्थ्य

सर्जरी में रखे ध्यान, बेहतर होंगे परिणाम

Tuesday, May 14, 2019 12:05 PM

जयपुर। ज्वाइंट रिप्लेसमेंट का मतलब शरीर के किसी भी हिस्से का ज्वाइंट हो सकता है। इसमें घुटनों का बदलना भी शामिल है और हिप रिप्लेसमेंट भी। सर्जरी के पहले के लक्षण काफी दर्दनाक होते हैं। मरीज को चलने में काफी दिक्कत आती है। इसलिए कुछ ऐसी बातों का ध्यान रखना जरूरी है जिससे ज्वाइंट रिप्लेसमेंट सर्जरी के बाद परेशानी ना हो। यदि इन बातो का ध्यान ना रखा जाए तो सर्जरी के बाद भी बेहतर परिणाम प्राप्त होना मुश्किल हैं।

ओवरवेट तो वजन कम करें
सीनियर ज्वाइंट रिपलेसमेंट सर्जन डॉ. एस.एस. सोनी ने बताया कि, अगर आपका वजन आपकी हाइट के मुताबिक ज्यादा है और आप ज्वाइंट रिप्लेसमेंट सर्जरी के बारे में सोच रहे हैं, तो पहले वजन कम करना पड़ेगा। इसका फायदा यह होता है कि इससे सर्जरी के बाद कॉम्पलिकेशंस कम हो जाती हैं साथ ही सर्जरी की सफलता की संभावना भी कई गुणा अधिक हो जाती है।
अन्य बीमारियों पर हो कंट्रोल

ज्वाइंट रिप्लेसमेंट सर्जरी से पहले जरूरी है कि अगर आपको कोई ओर दिक्कत है, तो उसे कंट्रोल में करें, जैसे- हाई ब्लड प्रेशर, हाई कोलेस्ट्रॉल या डायबिटीज। अगर आप स्मोक करते हैं, तो इसका दुष्प्रभाव भी सर्जरी पर पड़ सकता है। अगर आपको कोई स्किन प्रॉब्लम है या डेंटल डिजीज है, तो भी डॉक्टर को बताएं, क्योंकि दांतों की दिक्कत से सर्जरी के दौरान हिप या नी में इंफेक्शन फैलने का डर होता है। अगर आपको रुमेटॉयड आर्थराइटिस है, तो सर्जरी से एक महीना पहले इसकी दवाईयां रोकनी पड़ सकती हैं, ताकि ज्वाइंट रिप्लेसमेंट ठीक से हो जाए।

हिप और नी रिप्लेसमेंट सर्जरी डेढ़ से तीन घंटे की होती है। आजकल अत्याधुनिक तकनीक से सर्जरी के बाद आप मूवमेंट कर सकते हैं और 48 घंटों के बाद घर भी जा सकते हैं। ऐसा उनमें होता है, जिनमें कॉम्पलिकेशंस ना हों। यदि कॉम्पलिकेशन्स हो तो डॉक्टर्स कुछ समय का प्रीकॉशन्स लेकर सर्जरी के बाद अधिक समय का विश्राम कह सकते हैं।
-डॉ. एस.एस. सोनी, सीनियर ज्वाइंट रिपलेसमेंट सर्जन।