Dainik Navajyoti Logo
Monday 14th of October 2019
ब्लॉगर मंच

भारत को गांधी की जरूरत

keshav sharma

आने वाली नस्लें शायद मुश्किल से ही विश्वास करेंगी कि हाड़-मांस से बना हुआ कोई ऐसा व्यक्ति भी धरती पर चलता-फिरता था। दुनिया के महानतम वैज्ञानिकों में से एक माने जाने वाले वैज्ञानिक अल्बर्ट आइन्संटीन का यह कथन भारतीय स्वंतत्रता संग्राम के मुख्य सूत्रधार बने महात्मा गांधी के सन्दर्भ में प्रसिद्ध है। विश्व की महान क्रांतियों में शुमार किये जाने वाले भारतीय स्वाधीनता संग्राम का आधार बने गांधी को येन-केन-प्रकारेण इस आन्दोलन से अछूता नहीं किया जा सकता। गांधी का योगदान आजादी की लड़ाई में अतुलनीय है। गांधी ने आजादी के लिए संघर्ष की शुरुआत सन् 1915 में दक्षिण अफ्रीका से लौटने के बाद की थी। गांधी ने जमींदारी प्रथा और इसके नकारात्मक पक्षों, भेदभाव जैसी मूलभूत सामाजिक समस्याओं के खिलाफ आन्दोलन का बिगुल बजाकर सामाजिक और राजनीतिक आन्दोलन के साथ राष्ट्रीय पटल पर गांधी के आगमन की पहली बानगी थी। इसी कड़ी में सन् 1921 में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अध्यक्ष पद का भार संभालने के बाद उन्होंने विभिन्न राष्ट्रव्यापी सामाजिक-राजनीतिक आंदोलनों का नेतृत्व किया। वर्ष 1930 में दांडी पदयात्रा की शुरुआत तक आते-आते गांधी राष्ट्रीय पटल और जनमानस के बीच अपनी लोकप्रिय छवि व छाप छोड़ चुके थे।

गांधी की इस वैयक्तिक सफलता के पीछे उनकी कार्यप्रणाली का अहिंसात्मक एवं शांतिप्रिय होना था। शांति व अहिंसा के मसीहा गांधी ने ब्रिटिश साम्राज्य के खिलाफ विरोध प्रदर्शन के तरीकों में भी अहिंसावादी साधनों का इस्तेमाल किया, जिसमें पदयात्रा, अनशन और सरकारी संस्थाओं का बहिष्कार मुख्य थे। 1942 के भारत छोड़ो आन्दोलन के दौरान विरोध के इन्हीं साधनों को आमजन का सर्वव्यापी समर्थन मिला। गांधी की इसी कार्यप्रणाली से प्रभावित होकर विश्व के सबसे प्रतिष्ठित पुरस्कार नोबेल में शांति के क्षेत्र में उन्हें पांच बार इस पुरस्कार के लिए नामांकित किया गया, लेकिन विडम्बना ये रही कि उन्हें यह पुरस्कार कभी नहीं मिल पाया। आलोचकों का मत है कि गांधी का योगदान केवल आजादी तक ही सीमित था, लेकिन ये तथ्य फेक न्यूज़ जैसा है, क्योंकि महात्मा गांधी के सुधार और परिवर्तन केवल स्वाधीनता संग्राम तक ही सीमित नहीं थे, अपितु उन्होंने भारतीय समाज में सर्वांगीण परिवर्तन का सूत्रपात भी किया। पुनर्जागरण के ऐतिहासिक दौर की समाप्ति के बाद भी उन्होंने पिछड़े हुए भारतीय समाज में व्याप्त बुराईयों का विरोध किया, जिसके अंतर्गत महिला शिक्षा, अस्पृश्यता व शराबबंदी के लिए सकारात्मक परिवर्तन की अलख जगाई। गांधी के अनुसार अस्पृश्यता भारतीय समाज में व्यापत सबसे बड़ी बुराई है। गांधी ने अन्य सामाजिक मुद्दों पर अपनी बेबाक राय रखने के साथ ही आम जनमानस को भी इसी समाधान प्रक्रिया का हिस्सा बनाया। गांधी की आलोचना की इसी श्रृंखला में सन् 1942 के भारत छोड़ो आन्दोलन का भी आमतौर पर जिक्र किया जाता है। वर्तमान समय में उक्त आन्दोलन की सफलता और असफलता को लेकर आमजन एवं पर्यवेक्षकों के मध्य विरोधाभास हो सकते हैं, लेकिन अलग मायनों में  यह आन्दोलन आम भारतीयों का सुसंगठित व व्यवस्थित स्वरूप था और इस बात से किसी भी कीमत पर इनकार नहीं किया जा सकता।

1947 को जब देश औपनिवेशिक ताकतों की बेड़ियों से निकलकर आजादी का जश्न बना रहा था, तब गांधी आजादी से सालभर पहले, बंगाल के नोआखली में शुरू हुए साम्प्रदायिक दंगों के पीड़ितों के साथ अनशन पर बैठे थे। आजादी के जश्न के मौके पर जब पं. जवाहरलाल नेहरु और सरदार वल्लभ भाई पटेल ने पत्र के माध्यम से जश्न में शामिल होने का न्यौता दिया तो, गांधी ने निमंत्रण अस्वीकार कर दिया, क्योंकि वे देश के विभाजन व दंगों से दुखी थे। इस वर्ष देश इस महान आत्मा की 150वीं जयंती मनाएगा। ये गांधी की दृढ़ शक्ति का ही परिणाम था कि देश ने संघर्ष कर आजादी पाई। इसके साथ ही वे अन्य क्रांतिकारियों के लिए प्रेरणास्रोत बने। हमें चाहिए कि हम वर्तमान युग में गांधी के विचारों का आदान-प्रदान करें और समाज में गांधीवादी मूल्यों की स्थापना करें। यही बापू को हमारी सबसे बड़ी श्रद्धांजलि होगी। याद रखिए गांधी कल भी प्रासंगिक थे, आज भी हैं और कल भी रहेंगे।